Monday, October 5, 2009

अगरबत्ती




अगरबत्ती को आज जलते देखा
पल-पल वह जलती, रख होती जा रही थी
साथ-साथ खुशबू धुएं में उड़ा रही थी
एक तिनके पर चढाये गए थे मसाले,
मसाले के जलने तक थी उसकी आयु,
जब तक जली, महक उठा कमरा,
बुझी तो राख एवं छोटा सा तिनका बचा

जब-जब मैं भी जली,
तब-तब अहम् को लिए मिटी,
अब भी ना जाने कितने मसाले,
चिपके हैं मन पर
हौले-हौले जलेंगे सारे
हलकी-हलकी रख बन उडेंगे सारे

जीवन रहते चाहे मसाले भर लो जितनी,
हम इंसान की कीमत है बस इतनी

--बंदना

Thursday, October 1, 2009

चाहत









बस एक चाह थी



कोई एक राह मिल जाती



जिस पर चल कर


हर चाह मिट जाती





हर बात की शुरुआत


एक चाह से होती है


यहाँ चाह से मुक्त होने में भी तो


एक चाह पैदा हो गयी


यह चाहत के सिलसिले


समाप्त ही नहीं होते


मुंह मोर लो तो कुछ लम्हे


ठहर भी जाये


पुनः आने को आतुर रहते





शायद जीवन का मतलब ही


कुछ पाने की चाह के केंद्र में टिका है


उसी केंद्र पर प्रभु भी बैठा है


चाहत मिटी वह प्रकट हो जाता है


चाह को जगाना ही


उसे छुपाना है





इसी लुका छिपी, राग वैराग्य में


जीवन के खेल खेलती हूँ


कभी गम के बादलों में छुपती


तो कभी खिलखिलाती धूप में


प्रकट हो जाती हूँ




बंदना

बेटी



एक ही सांस से दो जीवन चल रही थी
माँ के अन्दर एक बेटी पल रही थी
कुछ अरमान थे अधूरे, इस ख्वाब से जुड़े
जो मुझ से ना हो सका,
वह यह कर दिखलाएगी
बिटिया से ही पूर्ण हो जाउंगी
उसके लिए हर जोखिम उठाऊंगी

दहेज़ दानव के घर ना जायेगी,
स्वाभिमान से जीवन बिताएगी
दो कुलों की रक्षा करेगी
किन्तु अपनों पर आंच ना आने देगी
प्रेम ही उसका धर्म होगा
सच्चाई ही उसका कर्म होगा

आज नन्ही से परी ने
मेरे जीवन में कदम रखा,
अभी बेटी थी,
लो! माँ बन गयी

ममत्व और करूणा में
मैं भी अंधी हो जाउंगी?
पिछले आ रहे इतिहास को
क्या मैं भी दोहराऊंगी?

नहीं! नव शिशु के साथ
नव चेतना से जागी हूँ
माया में पर कर अपना होश नहीं गवाऊंगी!

यह नम्र, निर्भीक, नरम दिलवाली होगी
ज़रूरत परने पर इस्पात से भी भारी होगी
पहली बार उसे नज़र उठाकर जब देखा
सारी हसरतों को दिल में दबाकर जब देखा
गोब में लेते ही भरपूर हो गयी
अब क्या? उसी में मशगूल हो गयी!

इस कोमल कली की
पूर्ण सम्भावना तक
संभाल कर रखना होगा
मुझे माँ से माली बन जाना होगा!

-- बंदना